अक्षय तृतीया पर ठाकुरजी को लगा दाल, ककड़ी मिश्री का भोग - www.dharmapravah.com | www.dharmapravah.com
Thursday, 22/8/2019 | 7:07 UTC+0
www.dharmapravah.com
अक्षय तृतीया पर ठाकुरजी को लगा दाल, ककड़ी मिश्री का भोग - www.dharmapravah.com

अक्षय तृतीया पर ठाकुरजी को लगा दाल, ककड़ी मिश्री का भोग

अक्षय तृतीया पर ठाकुरजी को लगा दाल, ककड़ी मिश्री का भोग
It's only fair to share...Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn

जयपुर। अक्षय फलदायनी अक्षय तृतीया आज मंगलवार को रोहिणी नक्षत्र में हर्षोल्लास के साथ मनाई गई। इस बार अक्षय तृतीया पर रवि योग, बुधादित्य योग व राजयोग का महासंयोग बन रहा है जो कि अत्यंत शुभ योग माना जा रहा है। ऐसा माना जाता है कि इस योग में किया गया कार्य सिद्ध होता है।  इस दिन चार ग्रह सूर्य, शुक्र, चंद्रमा व राहु अपनी उच्च की राशि में गोचर कर रहे है।  इस दिन सूर्य मेष में, चंद्र वृष में, राहु मिथुन में व शुक्र भी अपनी उच्च की राशि मीन में गोचर कर रहा है।

दाल ककड़ी का लगाया भोग
अक्षय तृतीया के अवसर पर मंदिरों में सुबह ठाकुरजी का अभिषेक किया गया। दाल ककड़ी व मिश्री का भोग लगाया गया। इसके बाद प्रसाद वितरित किया गया। शहर के आराध्य गोविन्ददेवजी मंदिर में महंत अंजनकुमार के सान्निध्य में ठाकुरजी को नवीन केसरिया रंग का धोती दुपट्टा धारण करवाया गया।  विशेष चंदन का लेप किया गया। इसके बाद धूप झांकी में शीतल फलों एवं मोतिया बेसन के लड्डु का भोग लगाया गया। ठाकुरजी को शीतलता प्रदान करने के लिए फव्वारा, कूलर, लगाया गया। आज से ठाकुरजी की पोशाक परिवर्तन ग्रीष्म ऋतु के अनुरूप धोती दुपट्टा की पोशाक धारण कराना प्रारंभ हो गया है। पानों का दरीबा स्थित सरस निकुंज में पीठाधीश्वर अलबेली माधुरी शरण के सान्निध्य में राधा सरस जू सरकार का ऋतु पुष्पों से शृंगार कर चंदन का लेप किया किया गया और शीतल व्यंजनों को भोग लगाया गया।
गलतागेट स्थित गीता गायत्री मंदिर में पंडित राजकुमार चतुर्वेदी के सान्निध्य में ठाकुरजी के दाल, ककड़ी व मिश्री का भोग लगाया गया।  गोनेर स्थित लक्ष्मी जगदीश मंदिर, चांदपोल स्थित रामचंद्रजी का मंदिर, चांदनी चौक स्थित देवस्थान विभाग के मंदिर श्री ब्रजनिधिजी व मंदिर श्री आनंदकृष्ण बिहारी जी, हवामहल के पास स्थित मंदिर श्री विजय गोविन्दजी, बड़ी चौपड़ स्थित लक्ष्मीनारायण बाईजी का मंदिर, रामगंज बाजार स्थित मंदिर श्री लाडलीजी सहित शहर के सभी मंदिरों में अभिषेक के बाद नवीन पोशाक धारण करवा कर दाल, ककड़ी व मिश्री का भोग लगाया गया।  भक्तों ने इस दिन मंदिरों में जाकर ठाकुरजी के मटके में सतू, आम, खरबूजा, चीनी व बिझणी रख कर ठाकुरजी को चढ़ाया।
बाजारों में रही रौनक  
पं अक्षय शास्त्री ने बताया कि इस दिन किसी भी नवीन कार्य की शुरूआत की जा सकती है। अक्षय तृतीया को शास्त्रों ने अक्षय पुण्यदायी और धनदायी कहा गया है। इस दिन कोई भी मांगलिक कार्य बिना पंचांग में मुहूर्त देखें किया जा सकता है। इस दिन स्वर्ण, भूमि, भवन, वाहन, मशीनरी खरीदना, किसी नए कार्य का शुभारंभ करना बहुत ही शुभ माना है। इसके चलते बाजारों में सुबह से ही रौनक दिखाई दी। इस दिन स्वर्ण खरीदना शुभ माना गया है।

print

POST YOUR COMMENTS

Your email address will not be published. Required fields are marked *

105341
Users Today : 86
Users Yesterday : 286
This Month : 6232
This Year : 96443
Total Users : 105341
loading...

Contact Us

Email: pravahdharma@gmail.com

Phone: +91 8824877593

Fax: Whatsapp +91 9929038844

Address: Jaipur