पत्रकार संपादक श्याम आचार्य के काव्य संग्रह ‘ अन्तर्दृष्टि ’ का लोकापर्ण - www.dharmapravah.com | www.dharmapravah.com
Thursday, 22/8/2019 | 8:28 UTC+0
www.dharmapravah.com
पत्रकार संपादक श्याम आचार्य के काव्य संग्रह ‘ अन्तर्दृष्टि ’ का लोकापर्ण - www.dharmapravah.com

पत्रकार संपादक श्याम आचार्य के काव्य संग्रह ‘ अन्तर्दृष्टि ’ का लोकापर्ण

पत्रकार संपादक श्याम आचार्य के काव्य संग्रह ‘ अन्तर्दृष्टि ’ का लोकापर्ण
It's only fair to share...Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn

जयपुर । सुप्रसिद्ध पत्रकार, चिंतक और संपादक श्याम आचार्य के काव्य संग्रह ‘अन्तर्दृष्टि ’ का शुक्रवार को साकेत अस्पताल में लोकार्पण हुआ। प्राकृत भारती अकादमी द्वारा प्रकाषित इस संग्रह में आचार्य ने पत्रकारीय जीवन की अनुभूतियों के साथ ही जन्म-मृत्यु, त्याग-तपस्या, सत्य-असत्य और जीवन संघर्ष को जिया है। श्याम आचार्य ने लोकार्पण अवसर पर 1972 से समय-समय पर लिखी कविताओं को पुस्तक रूप में प्रकाषित किए जाने पर प्रसन्नता जताते हुए कहा कि जब-जब जैसे विचार आए शब्द बनाकर कविता में उतरते रहे। जाने कितने वर्षों बाद पन्नों को अस्पताल में देखकर पुरानी स्मृतियां लौट आई। यह संग्रह मेरे विचारों का प्रस्फुटन है। उन्होंने कहा कि भारतीय प्रषासनिक सेवा के पूर्व अधिकारी श्री एस. एस. बिस्सा की कोषिष से इसका प्रकाषन संभव हो सका। उन्होंने साकेत अस्पताल के निदेषक प्रवीण मंगतुनिया का भी आभार जताया। इस मौके पर प्राकृत भारती के सदस्य और भारतीय प्रशासनिक सेवा के पूर्व अधिकारी श्याम सुंदर बिस्सा ने संग्रह में से चयनित कविताओं का पाठ किया। प्राकृत भारती के संस्थापक संरक्षक और रिजर्व बैंक आॅफ इंडिया के डिप्टी गवर्नर रहे पूर्व प्रषासनिक अधिकारी पद्मभूषण,सेबी के पूर्व अध्यक्ष डी.आर. मेहता ने कहा कि जब आचार्य से उन्होंने पूछा कि अच्छे व्यक्तियों को कष्ट क्यों होता है तो दार्षनिक भाव में उत्तर मिला ‘इसका उत्तर तो भगवान बुद्ध महावीर दें या आप बताएं।’ सुप्रसिद्ध कृषि पत्रकार डाॅ. महेन्द्र मधुप ने आचार्य के मन की भावों के लिखित का सभी के समक्ष वाचन किया। उन्होंने आचार्य के पत्रकारीय जीवन पर भी प्रकाश डाला।
लोकार्पण समारोह में दैनिक भास्कर के संपादक, ख्यातनाम लेखक श्री एल. पी. पंत ने कहा कि आचार्य पत्रकारीय जीवन के आदर्ष हैं। उनसे पत्रकारिता और लेखन में बहुत कुछ सीखने को निरंतर मिलता रहा है। पत्रकार श्री प्रवीण चन्द छाबड़ा, पूर्व कुलपति पुरूषोत्तम चतुर्वेदी ने आचार्य के दीर्घ जीवन की कामना करत उनके पत्रकारीय जीवन को अनुकरणीय बताया। लोकार्पण अवसर पर पत्रकार-संपादक गोपाल शर्मा, महेश शर्मा, एल.एल. शर्मा, राजेन्द्र बोड़ा, जनसंपर्क विभाग के पूर्व संयुक्त निदेशक लक्ष्मण बोलिया, संस्कृतिकर्मी कवि डाॅ. राजेश कुमार व्यास, पिंकसिटी प्रेस क्लब के अध्यक्ष अभय जोशी व प्रवीण मंगलूनिया तरूण जैन सहित बड़ी संख्या में पत्रकार, प्रशासनिक अधिकारी एवं कई लोग उपस्थित थे।

print

POST YOUR COMMENTS

Your email address will not be published. Required fields are marked *

105360
Users Today : 105
Users Yesterday : 286
This Month : 6251
This Year : 96462
Total Users : 105360
loading...

Contact Us

Email: pravahdharma@gmail.com

Phone: +91 8824877593

Fax: Whatsapp +91 9929038844

Address: Jaipur