शुरू होंगे विवाह, खरीदी के साथ नए अनुबंध, व्यवसाय प्रारंभ करना भी विशेष फलदायी अक्षय तृतीया | www.dharmapravah.com
Sunday, 24/3/2019 | 12:34 UTC+0
www.dharmapravah.com
शुरू होंगे विवाह, खरीदी के साथ नए अनुबंध, व्यवसाय प्रारंभ करना भी विशेष फलदायी अक्षय तृतीया

शुरू होंगे विवाह, खरीदी के साथ नए अनुबंध, व्यवसाय प्रारंभ करना भी विशेष फलदायी अक्षय तृतीया

शुरू होंगे विवाह, खरीदी के साथ नए अनुबंध, व्यवसाय प्रारंभ करना भी विशेष फलदायी अक्षय तृतीया
It's only fair to share...Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn

जयपुर। अक्षय तृतीया 18 अप्रैल को सूर्योदय से प्रारंभ होकर मध्य रात्रि तक रहेगी। यह सोना खरीदने का सबसे श्रेष्ठ दिन माना जाता है। पंडितों का कहना है कि यह अबूझ मुहूर्त वाला शुभ दिन होता है। इस दिन वाहन, भूमि, भवन खरीदी के साथ ही विवाह, नए अनुबंध और नया व्यवसाय प्रारंभ करना भी विशेष फलदायी होता है। पं राजकुमार चतुर्वेदी ने बताया कि मान्यता है कि स्वर्ण धातु पर लक्ष्मी व विष्णु का आधिपत्य है और जीवन में सुख-समृद्धि के कारक देवी-देवता भी यही हैं। खरीदी गई वस्तु खरीदार के पास स्थाई रुप से बनी रहे, इसलिए अक्षय तृतीया पर खरीद-फरोख्त का अधिक चलन है। सोना खरीदने की दूसरी वजह यह मानी जाती है कि वैशाख माह की तृतीया से ही पुन: विवाह मुहूर्त प्रारंभ होते हैं। वर-वधु के लिए स्वर्ण आभूषण की आवश्यकता होती है। अक्षय तृतीया पर खरीदी के लिए लोगों ने अभी से सराफा दुकानों पर बुकिंग शुरू कर दी है।
पं अक्षय शास्त्री के अनुसार अक्षय तृतीया का अर्थ है कि जिसका कभी क्षय न हो। यही वजह है कि लोग इस दिन जरूरत की वस्तु�”ं की खरीदी इस भावना और विश्वास के साथ करते हैं कि वह उनके पास अधिक समय तक रहेगी। इस दिन भूमि व वाहन और स्वर्ण आभूषण की सर्वाधिक खरीदी की जाती है। प्राचीन समय में लोग स्थाई संपति के रूप में सोना व भूमि ही मानते थे। तभी से अक्षय तृतीया पर इनकी खरीदी का चलन बना हुआ है। उन्होंने बताया कि सोने पर माता लक्ष्मी, विष्णु व सूर्य का आधिपत्य है। ये तीनों देव धन, यश, सुख, समृद्धि प्रदान करने वाले देव हैं। सोने को शुद्ध मानते हुए मंदिरों के शिखर पर स्वर्ण कलश लगाने की परंपरा भी इन्हीं कारणों से है। अक्षय तृतीया पर इस बार शुभ मुहूर्त के योग बन रहे हैं।
दान-पुण्य करना शुभ
अक्षय तृतीया पर नारायण, परशुराम और हृयग्रीव का अवतार हुआ था। ब्रह्मा के पुत्र अक्षय कुमार का भी इस दिन जन्म हुआ था। तृतीया पर सर्वार्थ सिद्धि योग का होना भी इस दिन शुभ संयोग है। इस दिन खरीद-फरोख्त को और अधिक शुभता मिल सके इसके लिए सूर्यदेव को जल चढ़ाने के बाद सत्तू, ककड़ी, खरबूज, सकोरे व घड़े आदि का जरूरतमंदों को दान करना चाहिए।
सर्वार्थ सिद्धि योग का संयोग

क्या करें अक्षय तृतीया के दिन

-इस दिन समुद्र या गंगा आदि पवित्र नदियों में स्नान करना चाहिए।

-पंखा, चावल, नमक, घी, शक्कर, साग, इमली, फल तथा वस्त्र का दान करना चाहिए। –

-इस दिन सत्तू खाना चाहिए।

– नवीन वस्त्र, शस्त्र, आभूषण बनवाना या धारण करना चाहिए।

-नए व्यापार का प्रारंभ भी करना चाहिए।

अक्षय तृतीया के बारे में विशेष

-इस दिन से सतयुग और त्रेतायुग का आरंभ माना जाता है।

-इसी दिन बद्रीनाथ धाम के पट खुलते हैं।

-नर-नारायण ने इसी दिन अवतार लिया।

-परशुराम जी का अवतरण इसी दिन हुआ था।

print

POST YOUR COMMENTS

Your email address will not be published. Required fields are marked *

051544
Users Today : 25
Users Yesterday : 575
This Month : 13960
This Year : 42646
Total Users : 51544
loading...

Contact Us

Email: pravahdharma@gmail.com

Phone: +91 8824877593

Fax: Whatsapp +91 9929038844

Address: Jaipur